१. सरसों के तेल से दरिद्रता दूर भागती है, सुख समृद्धि में वृद्धि होती है और भूत-प्रेत, ऊपरी बलाएं .....
 
दीपावली के समृद्धिकारक प्रयोग
१. सरसों के तेल से दरिद्रता दूर भागती है, सुख समृद्धि में वृद्धि होती है और भूत-प्रेत, ऊपरी बलाएं आदि पास नहीं आ पाते ,इसलिए सरसों तेल का दीपक दीपावली की रात्री अवश्य जलाएं |
२. रात्रि को मुख्य पूजन में अपने बही खाते, कलम, पर्स, सोना-चांदी, रत्न, आभूषण, धन आदि रखें। विद्यार्थीगण अपनी पुस्तकें अवश्य रखें। इससे सभी कामनाएं पूरी होती हैं। इसके अतिरिक्त श्री यंत्र, एकाक्षी नारियल, श्रीफल, शंख मालाओं और सभी देवी देवताओं की मूर्तियों का भी पूजन अवश्य करें।
३. रात्रि को ग्यारह से एक बजे के मध्य निम्नलिखित मंत्र का कमलगट्टे या स्फटिक की माला से ग्यारह बार जप करें तथा हर एक माला पूरी होने पर अपनी मनोकामना कहें।अगर दिव्या गुटिका या डिब्बी है तो उस पर इस मंत्र का किया गया जप इसके प्रभाव को कई गुना बढ़ा देता है |
मंत्र ¬ ह्रीं क्लीं महालक्ष्म्यै नमः
४. दीपावली के अवसर पर श्री सूक्त का पाठ करें। श्री सूक्त की ऋचाओं का हवन करने से भी मां लक्ष्मी अपने साधकों पर प्रसन्न होती है। Posted at 23 Apr 2020 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --