श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी की कृपा प्राप्त होते ही भक्तों के सभी दुख दूर हो जाते हैं। हनुमा.....
 
रामभक्त हनुमानजी को प्रसन्न करने के 'विशेष' उपाय
श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमानजी की कृपा प्राप्त होते ही भक्तों के सभी दुख दूर हो जाते हैं। हनुमानजी शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवी-देवताओं में से एक हैं। गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस के अनुसार माता सीता द्वारा पवनपुत्र हनुमानजी को अमरता का वरदान दिया गया है। इसी वरदान के प्रभाव से इन्हें भी अष्टचिरंजीवी में शामिल है।
- श्रीराम भक्त हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। इसके अलावा मंगलवार और शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए।

- श्रीराम नाम का जप करना और चमेली के तेल का दीपक लगाने से भी प्रभु हनुमान प्रसन्न होते हैं।

- शनिवार के दिन एक नींबू और 4 लौंग लेकर हनुमान मंदिर जाएं। उस नींबू के ऊपर चारों लौंग लगा कर हनुमान चालीसा का पाठ करें या हनुमानजी के मंत्रों का जप करें।

- हनुमानजी से सफलता दिलवाने की प्रार्थना करें। इसके बाद हनुमान जी का पूजन करें। पूजन के बाद यह अभिमंत्रित नींबू घर पर किसी पवित्र स्थान पर रखें।

- हनुमानजी को अर्पित करें पान, ध्यान रहे हनुमानजी के लिए बगैर तंबाकू, चूना और सुपारी का पान बनवाएं।

- हनुमानजी के लिए बनवाए गए पान में केवल कत्था, गुलकंद, सौंफ, खोपरे का बूरा, सुमन कतरी डलवाएं।

हनुमानजी की पूजा के साधारण नियम :

- हनुमानजी की पूजा-अर्चना और व्रत के दौरान ब्रह्मचर्य का पालन कर संयमपूर्वक रहना चाहिए।

- ध्यान रहे जो भी प्रसाद हनुमान को चढ़ाया जाए वह शुद्ध होना चाहिए।

- हनुमानजी की पूजा में घी अथवा चमेली के तेल का दीपक ही उत्तम होता है।

- प्रभु हनुमानजी को लाल फूल प्रिय हैं। उन्हें पूजा में लाल फूल ही चढ़ाने से वे प्रसन्न होते हैं।

- हनुमानजी की मूर्ति को जल व पंचामृत से स्नान कराने के बाद सिंदूर में तिल का तेल मिलाकर लगाने से वे प्रसन्न होते हैं। Posted at 23 Apr 2020 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --