।। श्री कृष्ण: शरणं मम: ।।
यह मन्त्र पुष्टिमार्ग का महामंत्र है, प्राणों से भी अधिक मुल्यवान.....
 
श्री कृष्ण का महामंत्र
।। श्री कृष्ण: शरणं मम: ।।
यह मन्त्र पुष्टिमार्ग का महामंत्र है, प्राणों से भी अधिक मुल्यवान है, निश्चित स्वरूप से सर्वदा सर्वोपरी महामंत्र है।
श्री - अक्षर के उचचारण से लक्ष्मी सहित सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

कृ - अक्षर के उच्चारण करनेसे सम्पूर्ण पापो का नाश होता है।

ष्ण: - अक्षर के उच्चारण से भौतिक आत्मिक अधिदैविक दुखो का हरण होता है।

शं - अक्षर के उच्चारण से जन्म मरण का दुःख दूर होता है।

- अक्षर के उच्चारण से प्रभु संबंधी ज्ञान प्राप्त होता है।

णं - अक्षर के उच्चारण से श्री कृष्णमें भक्ति बढ़ती है।

- अक्षर के उच्चारण से भगवद सेवा के उपदेशक श्री गुरुदेव में प्रीती उत्पन्न होती है।

म: - अक्षर के उच्चारण से प्रभु में समाज्य कराता है जिससे पुन : जन्म नहीं लेना पड़ता है। Posted at 23 Apr 2020 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --