भाग-दौड़ की जिन्दगी में डिप्रेशन जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है। चाहे वह छोटा बच्चा हो या फिर कोई .....
 
डिप्रेशन से बचने के उपाय
भाग-दौड़ की जिन्दगी में डिप्रेशन जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है। चाहे वह छोटा बच्चा हो या फिर कोई बड़ा बुजुर्ग हर कोई आज तनाव में जी रहा है। बच्‍चों को पढ़ाई और जॉब की चिंता तो वही पर बड़ों को उनके स्‍वास्‍थ्‍य और अपेन बच्‍चों के भविष्‍य की चिंता। डिप्रेशन एक द्वन्द है, जो मन एवं भावनाओं में गहरी दरार पैदा करता है। तनाव अन्य अनेक मनोविकारों का प्रवेश द्वार है। उससे मन अशान्त, भावना अस्थिर एवं शरीर अस्वस्थता का अनुभव करते हैं। ऐसी स्थिति में हमारी कार्यक्षमता प्रभावित होती है और हमारी शारीरिक व मानसिक विकास यात्रा में व्यवधान आता है। आपको यदि डिप्रेशन से बचना है तो खुद को व्यवस्थित कर लीजिए। इसमें कोई खर्च नहीं है, सिर्फ अपनी दिनचर्या और काम-काज को सही तरीके से करने की जरूरत है। साथ ही सेहत का भी ध्यान रखिए। ताजा प्राकृतिक भोजन ही आपकी सेहत के लिए सबसे बढ़िया है। अच्छी सेहत के साथ-साथ यह आपकी जेब पर भी भारी नहीं पड़ता। इसके अलावा डिप्रेशन को दूर भगाने के 20 और उपाय हैं जो कि इस तरह से हैं- डिप्रेशन से बचने के 20 उपाय आत्मिक जागरूकता लोग अवसादग्रस्त होते हैं क्यूँ की वे अपने जीवन की घटनाओं के बारें ज्यादा नहीं जानते और अपने जीवन को धक्का देते रहते हैं। स्थिति की मांग के अनुसार आत्म जागरूकता की कमी के कारण लोग अपने आपको अवसाद की स्थिति में डाल लेते हैं।

* डिप्रेशन से बचने के लिए मदद मांगे जिंदगी में कठिन परिस्थितियों में किसी की मदद मांगने में कोई शर्म नहीं है। कोई भी जिंदगी का बोझ अकेला नहीं उठा सकता है। अपने बुरे समय में अपनी पत्नी, सहकर्मी और दोस्त की सहायता लेने से आपको भावनात्मक बोझ से छुटकारा मिलेगा।

* डिप्रेशन से बचने के लिए रोजाना व्यायाम करें व्यायाम अवसाद को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है। इससे न केवल एक अच्छी सेहत मिलती है बल्कि शरीर में एक सकारात्मक उर्जा का संचार भी होता है। व्यायाम करने से शरीर में सेरोटोनिन और टेस्टोस्टेरोन हारमोंस का स्त्राव होता है जिससे दिमाग स्थिर होता है और अवसाद देने वाले बुरे विचार दूर रहते हैं।

* डिप्रेशन से बचने के लिए नियमित रूप से छुट्टियाँ लें द्रश्यों में बदलाव होते रहना नकारात्मक विचारों को दूर रखने में मददगार है। आपके अन्दर सकारात्मकता लाने के लिए एक दिन का ट्यूर ही काफी है। आगे से यदि आप अवसादग्रस्त महसूस करें तो अपना बैग पैक करें और निकल पड़ें छुट्टी पर। नियमित रूप से छुट्टी पर जाने वाले लोग जीवन की एकरसता और बोरपन से जल्दी निकल जाते हैं बजाय की लगातार कई सप्ताह तक काम में लगे रहने वाले लोगों के।

* डिप्रेशन से बचने के लिए संतुलित आहार लें फल, सब्जी, मांस, फलियां, और कार्बोहाइड्रेट आदि का संतुलित आहार लेने से मन खुश रहता है। एक संतुलित आहार न केवल अच्छा शरीर बनता है बल्कि यह दुखी मन को भी अच्छा बना देता है।

* डिप्रेशन से बचने के लिए वजन कम करें यदि वजन बढ़ने से आपको अवसाद प्राप्त हो रहा है तो वजन कम करने के बाद आपका मूड सामान्य हो सकता है। इसके अतिरिक्त, शारीरिक फिटनेस न केवल स्वास्थ्य में सुधार करती है बल्कि स्वयं में सकारात्मकता को बढाती है।

* डिप्रेशन से बचने के लिए अच्छे दोस्त बनायें अच्छे दोस्त आपको आवश्यक सहानुभूति प्रदान करते हैं और साथ ही साथ अवसाद के समय आपको सही निजी सलाह भी देते हैं। इसके अतिरिक्त, जरूरत के समय एक अच्छा श्रोता साथ होना नकारात्मकता और संदेह को दूर करने में सहायक है।

* डिप्रेशन से बचने के लिए अपनी रोजाना की गतिविधियों और भावनाओं को लिखने से आत्मनिरीक्षण और विश्लेषण करने में आपको मदद मिलती है। एक जर्नल या डायरी रखें जिसमे रोजाना लिखें की आप जीवन के बारें में क्या महसूस करते हैं। यह आपके अवसाद को दूर करने में सहायक होगा।

* डिप्रेशन से बचने के लिए जॉब का छोड़ना यदि आपका जॉब या प्रोफेशनल लाइफ आपकी चिंता का कारण बन रहा है तो इसे छोड़ने से आपको मन की शांति मिलेगी। दिन के अंत में अपने लक्ष्यों का मूल्यांकन करें और इसकी अपनी निजी ख़ुशी और संतुष्टि से तुलना करें। यदि आपका जॉब आपकी ख़ुशी के मार्ग में बाधा है तो इसे छोड़ दें।

* डिप्रेशन से बचने के लिए अपने आपको दुनिया से दूर करने से बचें जब आप अवसादग्रस्त हों तो अपने आपको दुनिया से दूर करना आसान होता है लेकिन ऐसा करने से आप अवसाद मुक्ति का अवसर गँवा रहें हैं। यदि पूरा समाधान भी नहीं हो रहा है तो भी लोगों के बीच रहने से निराशाजनक विचारों से अपना ध्यान हटाने में मदद मिलेगी।

* डिप्रेशन से बचने के लिए दूसरों को दोष नहीं दें लोग अक्सर बुरी स्थिति में दूसरों को दोष देते हैं, वे मानते हैं कि ऐसा करने से सब कुछ ठीक हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं है। तुम्हे यह जानना जरूरी है कि जब तुम्हारे नियंत्रण से बाहर है तो दूसरों को दोष देने से यह तुम्हारे पक्ष में नहीं होगी।

* डिप्रेशन से बचने के लिए बुरी स्थिति के बारे में सोचने से बचें हालाँकि ऐसा माना जाता है कि जिंदगी में बुरी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए। लेकिन यह एक पुराना विचार है। इससे आपका आगे बढ़ने का उत्साह कम हो जाता है और यह आपकी सफलता के रास्ते को बंद कर देता है।

* डिप्रेशन से बचने के लिए मनोचिकित्सक से सलाह लें अवसाद को दूर भगाने का सबसे मुख्य और आसान तरीका है कि आप मनोचिकित्सक की सलाह लें। मनोचिकित्सक की सलाह से आपको अवसाद की जड़ तक जाने और इसे दूर करने में मदद मिलेगी।

* डिप्रेशन से बचने के लिए हर किसी से यह आशा नहीं करें कि वह आपको समझे लोग अपनी जिंदगी दूसरों को खुश करने के लिए जीते है और इसमें असफल होने पर अपनी जिंदगी को अवसाद और गम में डुबो लेते हैं। सबको खुश करना संभव नहीं है इसलिए अपनी संतुष्टि पर ध्यान दें बजाय कि दूसरों को महत्त्व देने के।

* डिप्रेशन से बचने के लिए एक डॉगी को पालें पालतू डॉगी अपने मालिक से जुड़ने का एक अच्छा तरीका जानते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि पालतू पशु रखने वालें लोग अवसाद से जल्दी निकलते हैं बजाय कि जो लोग अकेले रहते हैं। भावनात्मक रूप से अपने पालतू जानवर से जुड़े रहने से आपको नकारात्मक सोच को दूर करने में मदद मिलेगी।

* डिप्रेशन से बचने के लिए आज के लिए जिएं अपनी पुरानी भूलों और गलतियों का शिकवा करने और अनिश्चित भविष्य के बारे में चिंता करने का कोई मतलब नहीं है। जब यह आपके नियंत्रण में ही नहीं है तो अपनी भावनाओं को ख़राब करने से कोई फायदा नहीं। अब, यहाँ, और आज पर फोकस करें बजाय कि कब, कहाँ, और कल।

* डिप्रेशन से बचने के लिए अच्छी तरह पूरी नींद सोयें एक अच्छी और पूरी रात की नींद सकारात्मक उर्जा को प्राप्त करने के लिए बहुत जरूरी है। अध्ययनों से पता चला है कि रोज 7 से 8 घंटे सोने वाले लोगों में अवसाद के लक्षण कम होते हैं।

* डिप्रेशन से बचने के लिए सेक्सुअल चाहत को नजरंदाज नहीं करें हालाँकि अवसाद के समय लोग यौन आनंद को प्राप्त करने में संदेह महसूस करते हैं, लेकिन बहूत से लोग यह स्पष्ट रूप से अनुभव के बाद मानते हैं कि सेक्स से अवसाद को दूर करने में मदद मिलती है। इस समय जो हारमोंस स्त्रावित होते हैं वे अवसाद को दूर करते हैं और मानसिक दबाव से राहत प्रदान करते हैं।

* डिप्रेशन से बचने के लिए संगीत से नाता जोड़े और मधुर संगीत सुनें जब आप अवसादग्रस्त होते है तो अच्छा संगीत आपके परेशान मूड को काफी जल्दी ठीक कर सकता है। संगीत में मूड बदलने, मन को उपर उठाने और भावनाओं से उपर उठाने की ताकत होती है। फिर भी ज्यादा भावनात्मक संगीत सुनने से बचना चाहिए, यह आपके मूड पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। Posted at 15 Nov 2018 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --