आज वैसे भी बच्चों या बढ़ो को मालिश का महत्व ही नही मालूम।आजकल बच्चे ना तो सिर मै तेल लगाते ना ही मा.....
 
निद्रा के पूर्व क्यों जरूरी है पैरो की मालिश
आज वैसे भी बच्चों या बढ़ो को मालिश का महत्व ही नही मालूम।आजकल बच्चे ना तो सिर मै तेल लगाते ना ही मालिश के महत्व को भलीभांति जानते ।

हम लोगों में से ज्यादतर लोग पैरों को उतना महत्व नहीं देते जितना कि देना चाहिये। पर क्‍या आप जानते र्हैं कि नियमित रूप से पैरों की मालिश करने से लुब्रिकेशन और ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार होता है, और विषाक्‍त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद भी मिलती हैं।

इतना ही नहीं, नियमित मालिश पैरों को मजबूती और अधिक लचीलापन भी प्रदान करता है। सोने से पहले अगर पैरों में नारियल तेल से मालिश की जाये तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है।

तेल में मौजूद तत्व पैर की मांसपेशियों को आराम देता है जिससे शरीर से तनाव कम होता है और साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी अच्छा होता है। रोज़ मालिश करने से अच्छी नींद आती है और अन्य स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां भी ठीक होती हैं जैसे पेट ठीक रहता है, रोज़ाना होने वाला सर दर्द भी ठीक रहता है। पैरों की मालिश को अपने नियमित दिनचर्या में शामिल करने के कुछ फायदे आज स्वास्थ्य ही जीवन ग्रुप मे हंस जैन द्वारा जानें।

शरीर के माध्‍यम से प्रसारित होने वाला ब्‍लड, शरीर की कोशिकाओं को ऑक्‍सीजन और पोषण पहुंचाने के लिए जिम्‍मेदार होता है। ब्‍लड शरीर से अपशिष्‍ट और विषाक्‍त पदार्थों को भी शुद्ध करता है। लेकिन जब तनाव की मौजूदगी के कारण ब्‍लड का फ्लो सीमित हो जाता है, तो पैरों की मालिश फायदेमंद हो सकती है क्‍योंकि इससे ब्‍लड सर्कुलेशन बेरोक प्रवाहित होता है।

रोज़ाना नारियल तेल से मालिश करने से पैर की नेर्वेस को आराम मिलता है और लेग सिंड्रोम को खत्म करने में भी मदद मिलती है। इसलिए इस परेशानी से निजात पाने के लिए रोज़ गर्म तेल की मैलिश करें।

रोज़ सोने से पहले 10 मिनट तक पैरों में मसाज करने से मूड स्विंग और ऐंगज़ाइअटी की परेशानी खत्म होजाती साथ ही लो और हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी भी खत्

रोज़ 20 मिनट पैरों की मालिश करने से मांसपेशियों के ऊतकों में मौजूद लैक्टिक एसिड खत्म होने लगता है जो एक्सर्साइज़िज़ करने से होता है। इसे अगर अनदेखा करने से पैरों की अन्य समस्या बढ़ सकती हैं।


जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका है पैरों की मालिश, इससे आप हर तरह के जोड़ों के दर्द छुटकारा पा सकते हैं।

पैरों में मालिश करने से आपको हर तरह के सर दर्द से आराम मिलता है, रोज़ 15 मिनट मालिश करने से दिमाग शांत होता है। और आप अच्छे से काम करते हैं।

गर्भावस्था के आखरी महीनो में गर्भवती महिलाओं को पैरों में मालिश जरूर करनी चाहिए। इससे पैरों में जमा तरल पदार्थ किडनी में वापस चला जाता है जहाँ उसे बहार निकलने का रास्ता मिलता है। Posted at 15 Nov 2018 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --