1. श्री रामसेतु : रामसेतु एक आश्चर्यजनक ऐतिहासिक पक्ष है जो भौतिक रूप में उत्तर में बंगाल की खाड.....
 
भारत की 11 खूबसूरत जगह, जहां छुपे हैं कई अनसुलझे रहस्य
1. श्री रामसेतु : रामसेतु एक आश्चर्यजनक ऐतिहासिक पक्ष है जो भौतिक रूप में उत्तर में बंगाल की खाड़ी को दक्षिण में शांत और स्वच्छ पानी वाली मन्नार की खाड़ी से अलग करता है, जो धार्मिक एवं मानसिक रूप से दक्षिण भारत को उत्तर भारत से जोड़ता है। यह भारत और श्रीलंका के बीच उथली चट्टानों की एक चेन है। इसे भारत में रामसेतु व दुनिया में एडम्स ब्रिज के नाम से जाना जाता है। इस पुल की लंबाई लगभग 48 किमी है।

2. ग्रेट वॉल ऑफ इंडिया : दुनिया की सबसे लंबी दीवार ग्रेट वाल ऑफ चाइना के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी दीवार भारत के राजस्थान में स्थित कुंभलगढ़ किले की दीवार है। यह 'ग्रेट वॉल ऑफ इंडिया है। उदयपुर से 64 किमी की दूर स्थित इस किले का निर्माण महाराणा कुम्भा ने 15 वीं शताब्दी में करवाया था।

3. रूपकुंड (कंकाल झील) : उत्तराखंड में स्थित एक ऐसी हिम झील है, जो अपने किनारे पर पाए गये पांच सौ से अधिक नर कंकालों के कारण प्रसिद्ध है। यह निर्जन स्थान हिमालय पर लगभग 5029 मीटर (16499 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। विशेषज्ञों का मानना है, कि यहां लोगों की मौत महामारी, भूस्खलन या फिर बर्फीले तूफान से हुई थी।

4. मैग्नेटिक हिल : एक ऐसा भारतीय अजूबा जिसे देखकर लोग अपनी दांतों तले ऊँगलियां दबाने पर मजबूर हो जाते हैं। ये अजूबा है जम्मू-कश्मीर की लेह सीमा में स्थित एक चमत्कारिक पहाड़ी, जिसे मैग्नेटिक हिल के नाम से जाना जाता हैं। इस मैग्नेटिक हिल पर यदि वाहन को न्यूट्रल करके खड़ा कर दिया जाए तब भी यह नीचे की और नहीं जाता। बल्कि वाहन नीचे की ओर ना जाकर खुद ब खुद उपर की ओर जाने लगता है। गाडिय़ां ही नहीं बल्किआसमान में उडऩे वाले हवाई जहाज भी इस पहाड़ी के गुरुत्वाकषज़्ण से बच नहीं सकते।

5. फुकटल मोनेस्ट्री, जम्मू-कश्मीर : एक गहरी सुनसान गुफा जिसमें बना है एक मठ जिसके ठीक सामने काफी गहरी खाई है। ऐसे में यहां पहुंचने वाले लोगों को नदी पर बने सस्पेंशन पुल के द्वारा यहां जाना पड़ता है। इस मठ तक पहुंचने के लिए नजदीकी कस्बे पादुम से तीन दिन ट्रैक करके पहुंचना पड़ता है।

6. शनि शिंगणापुर : शनि शिंगणापुर का एक अलग ही महत्व है। यहाँ शनि देव हैं, लेकिन मंदिर नहीं है। घर है लेकिन दरवाजा नहीं। वृक्ष है, लेकिन छाया नहीं। शनि शिंगणापुर गाँव में किसी भी घर में दरवाजा नहीं है। कहीं भी कुंडी तथा कड़ी लगाकर ताला नहीं लगाया जाता। इतना ही नहीं, घर में लोग आलमारी, सूटकेस आदि नहीं रखते। ऐसा शनि भगवान की आज्ञा से किया जाता है।

7. बुलेट बाबा का रहस्यात्मक मंदिर : राजस्थान के पाली जिले के एक मंदिर में बुलेट बाइक पूजी जाती है। यह स्थान जोधपुर पाली हाईवे पर पाली से लगभग 20 किलोमीटर दूर बुलेट बाबा के मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है।

8. भानगढ़ : भानगढ़ किला राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है। इस किले को भूतहा किला भी कहा जाता है। सूर्यास्त के बाद इस किले में किसी को भी जाने की अनुमति नहीं है। इस किले को आमेर के राजा भगवंत दास ने 1573 में बनवाया था। भानगढ़ का किला चहारदीवारी से घिरा है जिसके अंदर घुसते ही दाहिनी ओर कुछ हवेलियों के अवशेष दिखाई देते हैं। सामने बाजार है जिसमें सड़क के दोनों तरफ कतार में बनाई गई दो मंजिली दुकानों के खंडहर हैं। किले के आखिरी छोर पर दोहरे अहाते से घिरा तीन मंजिला महल है।

9. लोनार झील : 850 फीट की ऊंचाई पर बसा यह शहर इस गड्ढ़ेनुमा झील के कारण काफी फेमस है। लोनार के इस गड्ढ़े का निर्माण पृथ्वी की सतह पर उल्का गिरने के कारण हुआ था। यह लगभग 52,000 साल पहले की बात है। कई सदियां और साल गुजरने के बाद यह गड्ढ़ा एक झील में बदल गया जिसे आज हम लोनार झील के नाम से जानते है।

10. बैलेंसिंग रॉक : जबलपुर की मदन महल पहाडियों पर स्थित बैलेंसिंग रॉक पूरी दुनिया मे फेमस है। जहा एक चट्टान दूसरी चट्टान के एक अंगुल से भी कम हिस्से में सदियों से टिकी हुई है। जबलपुर शहर में 1998 में आए भूकंप के झटके भी इसका कुछ नहीं बिगाड़ पाए।

11. कुलधरा : जैसलमेर से केवल 18 कि.मी. की दूरी पर स्थिति है, एक ऐसा गांव जहां रात के अंधेरे में कोई भी जाना पसंद नहीं करता है. क्योंकि यहां हरपल ऐसा अनुभव होता है कि कोई आसपास चल रहा है। इस गांव में अंधेरा होते ही महिला ओं के बात करने, उनकी चूडियों और पायलों की आवाज हमेशा ही वहां के माहौल को भयावह बनाते हैं। Posted at 23 Apr 2020 by admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --