1- संकुचित होंठ- ऐसे होंठ छोटे व पतले होते हैं इनमें कोई रंग नहीं होता। ऐसे जातक दिखावटी, अक्षम हो.....
 
होंठ के निम्न भेद होते हैं
1- संकुचित होंठ- ऐसे होंठ छोटे व पतले होते हैं इनमें कोई रंग नहीं होता। ऐसे जातक दिखावटी, अक्षम होते हैं इनकी बोलने की क्षमता भी अपेक्षाकृत कम होती है।
2- मोटे होंठ- अधिक थुलथुले, मांस से भरपूर होंठ जो देखने में बदसूरत लगते हैं। ऐसे जातक क्रोधी स्वभाव, वासनात्मक वृत्ति, भावुक, शीघ्र आवेश में आने वाले, अपराधी व जिद्दी होते हैं।
3- रसिक होंठ- ऐसे होंठ लाल रंग, मृदुल, चिकने व दिखने में कलात्मक होते हैं। ऐसे जातक रमणीक, कामासक्त व भोगी होते हैं।
4- लाल होंठ- इस प्रकार के होंठ कर्मठता के प्रतीक है। ऐसे जातक क्रोधी, उत्तेजनात्मक, हठी, उत्सुक व साहसी होते हैं।
5- गुलाबी होंठ- गुलाबी होंठो के जातक आदर्शवादी होते हैं। व्यवहार कुशलता, उदारता, विकसित बुद्धि, संतुलित, सरल व मृदु स्वभाव इनकी विशेषता होती है।
6- उभरे हुए होंठ- जिनके होंठ उभरे हुए होते हैं ऐसे जातक मांसाहारी, मंदबुद्धि, डरपोक, नीचसंगत, हीनभावना से ग्रसित रहते हैं। Posted at 23 Apr 2020 by Admin
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --