find your lifes related every questions, answer by Shree Raam Shalaka.
 
प्रभु श्रीरामजी का स्मरन करके, अपना सवाल मन मे लाकर, इस चीत्र पर क्लीक करे। 
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
चौपाईः

उधरहिं अंत न होई निबाहू।
कालनेमि जिमि रावन राहू।।

व्याख्याः यह चौपाई बालकांड के प्रारंभ में सत्संग वर्णन के प्रसंग की है.

निष्कर्षः आप जो कार्य करने जा रहे हैं उसकी सफलता में संदेह है. कुछ अशुभ संकेत मिलने लगें तो कार्य को रोकना चाहिए और नए निश्चय के साथ प्रभु का नाम लेकर शुभ मुहूर्त में शुरू करना चाहिए.