find your lifes related every questions, answer by Shree Raam Shalaka.
 
प्रभु श्रीरामजी का स्मरन करके, अपना सवाल मन मे लाकर, इस चीत्र पर क्लीक करे। 
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
                             
चौपाईः

गरल सुधा रिपु करहिं मिताई।
गोपाद सिंधु अनल सितलाई।।

व्याख्याः जब हनुमानजी ने लंका में प्रवेश किया उस समय की यह चौपाई है.

निष्कर्षः इसका अर्थ है कि आपका अभीष्ट कार्य अवश्य पूर्ण होगा. श्रीरामजी का स्मरण कर आरंभ करें.