वैसे तो पूजा किसी वेदपाठी ब्राह्मण से ही करानी चाहिए लेकिन य Strotras
 
|| dainikpooja ||
वैसे तो पूजा किसी वेदपाठी ब्राह्मण से ही करानी चाहिए लेकिन यदि कोई वेदपाठी उपलब्ध नहीं है तो ऐसी स्थिति में आप स्वयं भी पूजा कर सकते हैं.
पूजा की जो विधि हम बताने जा रहे हैं वह पूर्ण नहीं है. इसे कामचलाउ ही कहा जा सकता है. बिलकुल नहीं से कुछ होना अच्छा होता है.
हम यह विधि इसलिए बता रहे हैं क्योंकि यदि मन में पूजा का विचार आया है तो उसे पुरोहित के अभाव में रोकना नहीं चाहिए. त्रुटियों के लिए ईश्वर क्षमा करें.
FACEBOOK COMMENTES
  Share it --